देश

भारत में कोरोना वैक्सीन की कोई कमी नहीं,स्टॉक में अब 10 करोड़ से अधिक टीके

नई दिल्ली

कोरोना महामारी के संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए देश में बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। हालांकि इस दौरान टीके का स्टॉक लगातार बढ़ा है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, विभिन्न राज्यों में इस्तेमाल नहीं किए गए टीकों की संख्या पिछले एक महीने में लगभग दोगुनी हो गई है। आपको बता दें कि अक्टूबर की शुरुआत में इसकी संख्या करीब पांच करोड़ के करीब थी, जे बढ़कर 10 करोड़ हो गई है। यह बताता है कि देश में टीके की कोई कमी नहीं है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “नए आंकड़ों के अनुसार, टीकाकरण कार्यक्रम के तहत 10 करोड़ से अधिक वैक्सीन की खुराक राज्यों के पास पड़ी थीं। राज्यों के पास टीकाकरण कार्यक्रम के लिए पर्याप्त टीके हैं। यह संख्या दोगुनी से अधिक हो गई है।"

आंकड़ों के अनुसार, एक सप्ताह पहले करीब आठ करोड़ खुराक उपलब्ध थे। इस महीने की शुरुआत में यह संख्या करीब पांच करोड़ थी। केंद्र सरकार के अन्य अधिकारी ने कहा, "दैनिक खुराक की संख्या की तुलना में आपूर्ति में काफी वृद्धि हुई है। इतना अधिक कि हम लगभग हर दूसरे दिन राज्यों को एक ही दिन में अधिक खुराक देने के लिए कहते हैं।आपूर्ति अब कोई मुद्दा नहीं है।"

वैक्सीन की आपूर्ति में वृद्धि को देश में समग्र वैक्सीन उत्पादन में वृद्धि और बेहतर लॉजिस्टिक व्यवस्था का कारण बताया गया है। आपको बता दें कि राज्यों के पास अब कोविशील्ड खुराक करीब 22.2 करोड़ है। वहीं, करीब 60 लाख कोवैक्सीन की खुराक भी राज्यों के पास है।

पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) स्थानीय रूप से कोविशील्ड ब्रांड नाम के तहत ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविद -19 वैक्सीन का निर्माण कर रहा है। भारत बायोटेक कोवैक्सिन का निर्माण कर रहा है।

एक अन्य अधिकारी ने कहा, “पहले, राज्य अक्सर वैक्सीन आपूर्ति की कमी के बारे में शिकायत करते थे। हम उन्हें धैर्य रखने के लिए कहते थे, क्योंकि कंपनियां अपने मासिक वैक्सीन उत्पादन में तेजी लाने की प्रक्रिया में थीं। हमें प्रतिदिन आपूर्ति मिलने वाली वैक्सीन की संख्या बढ़ी है। हमें एक ही दिन में एक करोड़ से अधिक वैक्सीन की खुराक भी मिली।”

Tags

Related Articles

Back to top button
Close