गाजियाबाद । गाजियाबाद नगर निगम अब 15 फीसदी बढ़ोतरी के साथ हाउस टैक्स लेगा, लेकिन कोरोना से जिस किसी परिवार में मौत हो गई है उनका एक साल का हाउस टैक्स माफ किया गया है। निर्धारित समय पर हाउस टैक्स जमा करने वालों को छूट मिलेगी। सर्किल रेट के हाउस टैक्स का निर्णय बोर्ड बैठक में लिया जाएगा। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि वर्तमान में किसी प्रकार का टैक्स नहीं बढ़ाया गया है। वित्तीय वर्ष 2019-20, 2020-21 और 2021-22 में किसी भी प्रकार के हाउस टैक्स में बढ़ोतरी नहीं की गई थी, जबकि वर्ष 2015 के बोर्ड प्रस्ताव के अनुसार प्रत्येक दो वर्ष में 10 फीसदी वृद्धि होनी चाहिए। नगर आयुक्त ने बताया कि कोरोना काल में जिस किसी परिवार में मौत हुई है उनका इस वित्तीय वर्ष का हाउस टैक्स माफ किया गया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में नगर निगम में अधिकतम दरें एक रुपये 90 पैसे हैं। न्यूनतम दर 38 पैसे हैं। गाजियाबाद में वर्तमान में सभी क्षेत्र में एक सामान की दरें लागू हैं। पॉश कॉलोनी राजनगर, नेहरूनगर, वैशाली, प्रताप विहार,राजेंद्रनगर की दरें मलिन बस्ती और गांव शाहपुर बम्हैटा, भौपुरा, पसौंडा आदि क्षेत्र में भी दर निर्धारित है। यानी कि राजनगर की दरें एक रुपये 90 पैसे प्रति वर्ग फुट हैं, वही दरें मलिन बस्ती और गांव शाहपुर बम्हैटा, भौपुरा, पसौंडा में भी लागू हैं। यानी की सर्किल दरों के आधार पर दरें निर्धारित न होने से विभिन्नता है। जबकि अन्य नगर निगम मुरादाबाद में तीन रुपये 71 पैसे प्रति वर्गफुट, कानपुर में दो रुपये 85 पैसे प्रति वर्गफुट और लखनऊ में दो रुपये 60 पैसे प्रति वर्गफुट दरें हैं। इन सभी जगह सर्किल रेट के हिसाब से दरें निर्धारण है। नगर आयुक्त ने बताया कि शहर में 3 लाख 64 हजार करदाता हैं। 31 अक्टूबर तक 20 फीसदी की छूट मिलेगी। नवंबर और दिसंबर में 15 फीसदी छूट का लाभ दिया जाएगा। अगले साल जनवरी और फरवरी माह 10 फीसदी छूट का लाभ दिया जाएगा।