उत्तर प्रदेश

देश का दूसरा सर्वाधिक प्रदूषित शहर रहा मुरादाबाद

मुरादाबाद
दिवाली की रात और सोमवार को मुरादाबाद में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर तक पहुंच गया। यहां हवा में जहर दिल्ली से भी अधिक रहा। रविवार को दिवाली पर छूटे पटाखों के बीच मुरादाबाद का एक्यूआई 350 के आसपास रहा जबकि सोमवार सुबह मुरादाबाद का एक्यूआई  बढ़कर 392 पर पहुंच गया। यह देश का दूसरा सबसे अधिक प्रदूषित शहर रहा।

मुजफ्फरनगर एक्यूआई 405 के साथ पहले तो हरियाणा का सिरसा 391 एक्यूआई के साथ प्रदूषित शहरों की सूची में देश में तीसरे नंबर पर रहा। रात को मुरादाबाद का एक्यूआई और बढ़ गया। रात साढ़े 10 बजे 436 एक्यूआई के साथ नोएडा देश का सर्वाधिक प्रदूषित शहर बन गया तो मुरादाबाद 409 एक्यूआई के साथ देश में पांचवा सबसे प्रदूषित शहर रहा। इन शहरों के मुकाबले दिल्ली का एक्यूआई कम रहा।

सोमवार सुबह मुरादाबाद का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 392 दर्ज किया गया। इसी वक्त,  मुरादाबाद में दिवाली पर जले पटाखों के धुएं का यहां की हवा पर असर सोमवार आधे दिन तक बना रहा। पटाखों के धुएं से मुरादाबाद की हवा काफी ज्यादा जहरीली हो गई। रविवार की रात शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक 350 के आसपास बना रहा। सोमवार को आसमान में हल्के बादल छाए रहने और धुंध के बीच दिन भर शहर की हवा जहरीली ही बनी रही। विशेषज्ञों के मुताबिक पटाखों के जलने से हवा में भारी धातुओं के जहरीले महीन कणों की मात्रा बढ़ने के चलते लोगों ने दम घुटने का एहसास किया। सांस की बीमारी से पीड़ित लोगों की परेशानी बढ़ गई।

दिल्ली से ज्यादा जहरीली हुई मुरादाबाद की हवा

  • शहर            एक्यूआई
  • नोएडा            436
  • गाजियाबाद      426
  • मुजफ्फरनगर    421
  • ग्रेटर नोएडा      420
  • मुरादाबाद        409
  • दिल्ली           399

Related Articles

Back to top button
Close