बिलासपुर-  कोरोना के फैलते संक्रमण के बावजूद सीयू प्रशासन लापरवाही बरत रहा है। बाहरी राज्यों के छात्रों को बिना कोरोना टेस्ट के प्रवेश दे रही है। जबकि विश्वविद्यालय में 2 शिक्षकों ने कोरोना पाजेटिव होने की पुष्टि की है।
कोरोना संक्रमण के फैलते ही शासन-प्रशासन ने स्कूल-कॉलेज सहित सभी आयोजनों पर प्रतिबंध लगा दिया है। वहीं दूसरे प्रदेश से आनेवाले वाले लोगों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य किया गया है। लेकिन गुरुघासीदास विश्वविद्यालय में दूसरे राज्यों के छात्रों को प्रवेश दे रही है। इसके बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन ने कैंपस को फर्स्ट फेज में खोल रखा है। बाहरी राज्यों के स्टूडेंट्स को बगैर टेस्ट कराए कैंपस में एंट्री दी जा रही है। किसी भी तरह का टेस्ट रिपोर्ट सबमिट नहीं कराया गया है। विभागों में संपर्क करने का मौखिक दबाव कुछ विभागाध्यक्षों द्वारा बनाया गया है। ऐसी भयावह स्थिति में भी विश्वविद्यालय प्रशासन की यह लापरवाही अप्रिय घटना को अंजाम दे रही है।